रामलला के गर्भगृह स्थल पर चल रहे समतलीकरण में प्राचीन मंदिर के अवशेष मिले


अयोध्या। राम जन्मभूमि में विराजमान रामलला के गर्भगृह स्थल पर चल रहे समतलीकरण के दौरान पुरावशेष प्राप्त हो रहे हैं। इनमें देवी-देवताओं की खंडित मूर्तियों के साथ प्राचीन मंदिर के अवशेष मिले हैं। बीते 11 मई से शुरू हुए समतलीकरण के कार्य को लेकर 'हिन्दुस्तान' ने खबर प्रकाशित की थी। नौ दिनों बाद रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने समतलीकरण कार्य की जानकारी देते हुए पुरावशेषों को भी सार्वजनिक किया है।


चंपत राय ने बताया कि इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश के क्रम में पूर्व में हुई खुदाई से प्राप्त पुरावशेषों के अतिरिक्त काफी संख्या में अलग-अलग दिनों में पुरावशेष प्राप्त हो रहे हैं। उन्होंने बताया कि समतलीकरण के दौरान अब तक मिले पुरावशेषों में देवी-देवताओं की खंडित मूर्तियां, पुष्प, कलश, आमलक व दोरजाम्ब कलाकृतियां हैं। इसके अलावा मेहराब के पत्थर, सात ब्लैक टच स्टोन के स्तम्भ व छह रेड सैंड स्टोन के स्तम्भ के अलावा पांच फिट आकार की नक्काशीयुक्त शिवलिंग की आकृति भी प्राप्त हुई है।


महासचिव चंपत राय ने बताया कि जिलाधिकारी अनुज कुमार झा की अनुमति से चल रहे समतलीकरण कार्य के दौरान सोशल डिस्टेसिंग के साथ सभी निर्देशों का पूर्णत: पालन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के कारण मंद गति से काम चल रहा है। इस कार्य के लिए फिलहाल एक दर्जन श्रमिकों के साथ तीन जेसीबी व एक क्रेन एवं दो ट्रैक्टर का उपयोग किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के कारण सभी मजदूरों को मास्क व सैनिटाइजर भी उपलब्ध कराया गया है।