क्या वाकई खुली जगहों में टहलना हानिकारक नहीं?


कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया है। भारत में भी कोविड-19 के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। लोगों के मन में रोज नए-नए सवाल उठ रहे हैं। ऐसे में एक सवाल लोगों के मन को परेशान कर रहा है कि क्या  वाकई खुली जगहों में टहलना हानिकारक नहीं है। यहां हम विश्व स्वास्थ्य संगठन , केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और विशेषज्ञों द्वारा दी जा रही कोरोना से जुड़ी जानकारियों को आप तक पहुंचाकर आपके सवालों के जवाब देने की कोशिश कर रहे हैं। आइए जानते हैं क्या है सच। 


कोविड-19 के संक्रमण को देखते हुए घर से बाहर पार्क में टहलना कितना सुरक्षित है? 
जवाब-

ताजी हवा व प्राकृतिक रोशनी संक्रमण फैलने से रोकते हैं। ब्रिटेन के वैज्ञानिकों की एक संस्था सेज से जुड़े प्रो. एलेन के अनुसार, घर से बाहर पार्क आदि में टहलना पूरी तरह सुरक्षित है। अल्ट्रावॉयलेट किरणें वायरस के जेनेटिक मैटीरियल को नुकसान पहुंचाती हैं, ऐसे में पार्क आदि खुली जगहों में अकेले टहलने से वायरस फैलने की आशंका न के बराबर है। हालांकि पार्क में ऐसी चीजों व सतह को छूने से बचें, जिन्हें लोग बार-बार छूते हैं। कम से कम 2 से 3 मीटर की दूरी बनाए रखें। घर आने के बाद हाथ जरूर धोएं और इससे पहले चेहरे को न छुएं।
 
क्या एसी ट्रेनें अभी यात्रा के लिहाज से सुरक्षित हैं?
जवाब-

कई स्वास्थ्य विशेषज्ञों व राज्य सरकारों ने रेलवे द्वारा लंबी दूरी की एसी ट्रेनों के परिचालन पर चिंता व्यक्त की है। कर्नाटक कोविड-19 टास्क फोर्स के सदस्य डॉ. सी.एन. मंजूनाथ का कहना है कि ट्रेन में सफर करने वाला एक भी व्यक्ति संक्रमित हुआ, तो सेंट्रलाइज्ड एसी वायरस के प्रसार में सहायक हो सकता है। वहीं इस मसले पर रेलवे का कहना है कि एसी कोच के अंदर हर घंटे में कम से कम 12 बार हवा का पूरी तरह परिवर्तन हो जाता है। साथ ही, यात्रियों को कंबल नहीं दिए जा रहे, इसलिए कोच का तापमान भी बढ़ा दिया गया है।
 
गर्मी के मौसम में मास्क से चेहरे की त्वचा को नुकसान भी हो सकता है? 
जवाब-


मास्क से चेहरे की त्वचा पर कुछ असर हो सकता है, खासकर जब तापमान में वृद्धि होगी। चेहरे को मास्क से ढकने के कारण अंदर नमी पैदा होती है और त्वचा को गर्मी झेलनी पड़ती है, क्योंकि सांसें मास्क से टकराकर वापस आती हैं। नतीजतन चेहरे की त्वचा पर पसीना जमा होता है और वह तैलीय हो जाती है। इसकी वजह से वहां रैशेज हो सकते हैं। मास्क से मास्कने (मास्क+एक्ने) यानी मुंहासे भी हो सकते हैं। इसके बावजूद बाहर निकलते समय मास्क जरूर लगाएं। घर आकर त्वचा को साफ करने के लिए फेशियल वाइप्स का प्रयोग करें।