क्या आपकी राशि, मेष है? तो अपने मित्रों और शत्रुओं के बारे में जानिए!


मेष राशि को राशि-चक्र में सबसे “प्रमुख’ के रूप में जाना जाता है और मेष राशि में पैदा हुए व्यक्ति जन्मजात नेता होते हैं– वे दृढ़ और ऊर्जावन होने के साथ साथ स्नेही और दयालु भी होते हैं। ज्यादातर राजाओं की तरह उनमें अच्छे निर्णय लेने का गुण होता है। वे अपने क्षेत्र को मजबूती से पकड़े रहते हैं और जब कोई उन्हें उनके स्थान से हटाने की कोशिश करता है तो उन्हें यह बात पसंद नहीं आती।


अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसारजिन व्यक्तियों का जन्म 21 मार्च से 20 अप्रैल के बीच होता है वे व्यक्ति मेष राशि के अंतर्गत आते हैं। यह राशि चक्र की पहली राशि होती है जिस वजह से इसे 'समूह का प्रमुखभी कहा जाता है।


प्राचीन वैदिक ज्योतिषी थोड़ी अलग कहानी बताते हैं। बहुत समय पहलेभारतीय मुनियों (पंडितो) ने 27 तारा मंडल नक्षत्रों की पहचान कीजो प्रत्येक दिन चंद्रमा के साथ दिखाई देते रहे। इनका उपयोग वैदिक ज्योतिष में राशि चिन्हों का प्रतिनिधित्व करने के लिए किया जाता था।


बहुत पहले जब कैलेंडर नहीं होते थेसमय की गणना सूर्य की किरणों के पूर्व से पश्चिम की तरफ गति के आधार पर की जाती थी। एक डिग्री गति की गणना समय में चार मिनट के रूप में की गयी। इस गणना के अनुसार 15 डिग्री की गति एक घंटे के रूप में मानी गई और 360 डिग्री 24 घंटेयह वह समय है जो पृथ्वी अपने धुरी पर एक पूरा चक्कर लगाने में लेती है।


यह गणना दिन में करनी आसान थी जब सूर्य की किरणें चमकतीं थीं। लेकिन रात मेंचित्र उपलब्ध नहीं होते थे। जिसके कारण भारतीय ज्योतिषशस्त्रियों ने नक्षत्रों का सहारा लिया। उन्होंने पाया कि प्रत्येक 28 दिनों में चंद्रमा की पृष्ठभूमि में समान नक्षत्र बनते हैंउन्होंने  27 ऐसे नक्षत्रों की खोज की तथा महीने के प्रत्येक दिन का प्रतिनिधित्व करने के लिए उनका उपयोग किया।


उन्होंने सूर्य और चंद्रमा के साथ पहचाने जा सकने वाले पांच ग्रहों (बुधशुक्रमंगलबृहस्पति और शनिपर सबसे प्रभावशाली आकाशीय पिंडों के रूप में विचार किया और एक चार्ट (आलेखनिर्मित किया जो पृथ्वी के संबंध में उनकी स्थिति को दर्शाता था।


चार्ट तैयार करते समय उन्होंने दो चंद्र नोडराहु और केतु का भी उपयोग कियाजो सूर्य और चंद्रमा के रास्तों के प्रतिच्छेदन के बिंदुओं को दर्शातें हैंजब वे आकाशीय परिक्षेत्र में गति करते हैं। ये चार्ट (आलेखप्राचीन काल में कृषि गतिविधियों जैसे रोपण और कटाई के समय की पहचान करने के लिए उपयोग में लाए जाते थेसाथ ही मंदिरस्थान और व्यक्ति आदि के जीवन की महत्वपूर्ण घटनाओं की भविष्यवाणी करने के लिए भी इनका प्रयोग किया जाता था।


सात ग्रहों की गति के आधार पर वैदिक ज्योतिष में जिन व्यक्तियों की कुंडली में चंद्रमा मेषराशि में आता है उनका वर्गीकरण मेष के रूप में किया गया। सूर्य उनका योग कर्क  ग्रह होता है जो उनकी समृद्धि और प्रभावशीलता को दर्शाता है। बुधशनि और शुक्र उनके दुर्योग को दर्शाते हैं जो दुर्भाग्य और दुख लेकर आते हैंजबकि बृहस्पतिसूर्य और मंगल उनके सुयोग को दर्शाते हैं जो सकारात्मक प्रभाव लेकर आते हैं।


शूरवीर योद्धा


मेष राशि का सूर्यमंगल ग्रह से नियंत्रित होता है जो की योद्धाओं अथवा शूरवीरों का ग्रह माना जाता है। इस वजह से मेष राशि के व्यक्तियों को असमानताआलस्य और निष्क्रियता से नफरत होती है। राशि चक्र में प्रथम स्थान पर होने की वजह सेमेष राशि में पैदा होने वाले लोग हर चीज में सबसे पहले रहना पसंद करते हैं और उन्हें शीघ्रता और प्रतिस्पर्धा काफी पसंद है। लेकिन उनकी यह आदत कभी-कभी उन्हें जिद्दीलापरवाह और प्रतिस्पर्धी बना सकती है क्योंकि वे खुद  दूसरों से बेहतर दिखाने की कोशिश करते हैं।


वेअपने संवाद में अपरोक्ष और स्पष्ट होने के लिए जाने जाते हैं। वे शब्दों को बनाकर बोलना नहीं जानते हैं और इसलिएवे उन व्यक्तियों के साथ सबसे मजबूत बंधन बनाते हैं जो उनके समान ऊर्जावान और बहादुर हैं।


अन्य राशियों के साथ अनुकूलता


आम तौर परमेष राशि के व्यक्तियों लिए सिंहधनु और कुंभ राशि के व्यक्ति सबसे अच्छे साथी माने जाते हैं। हम राशि-चक्र की अन्य राशियों के व्यक्तियों और मेष राशि के व्यक्ति के साथ संबंधों पर और विस्तार से जानेंगे


मेष राशिमेष राशि के पुरुष और मेष राशि की महिलाओंइसी प्रकार मेष राशि की महिलाएं तथा मेष राशि के पुरुषों की सुसंगतता अच्छी रहती हैं। लेकिन यह अनुकूलता तभी अधिक फायदेमंद होगी यदि उनके तारे (नक्षत्रअलग होंगे।


वृषभ राशि: वृषभ राशि का अधिस्वामी शुक्र ग्रह है जो कि एक बहुत शक्तिशाली ग्रह हैलेकिन यह बहुत शुभ माना जाता है। इसलिएवृषभ और मेष राशि के बीच का संबंध दो शक्तिशाली व्यक्तित्वों का संबंध माना जायेगाजो आपसी सम्मान और समझ से ही पनप सकता है।


मिथुन राशि: मिथुन राशि वालों को बेहद चतुर और जीवन उर्जा से ओतप्रोत माना जाता है और उन्हें मेष राशि के व्यक्तियों का हंसमुख स्वभाव अवश्य ही आकर्षित करेगा।


कर्क राशि:कर्क और मेष राशि के बीच दीर्घ   मजबूत संबंध बनाने के लिए बहुत प्रयास की आवश्यकता होती है। वे धार्मिकअंतर्ज्ञानी और अत्यंत पारिवारिक होते हैं।


सिंह राशि


सिंहमेष राशि वालों की साझेदारी शानदार होती है क्योंकि दोनों ही अग्नि तत्व की राशियां हैं सिंह राशि के व्यक्तियों को उग्र और वफ़ादार माना जाता हैहालांकि वे आलसी भी हो सकते हैं।


कन्या राशिकन्या राशि में जन्मे लोग शर्मीले और नारी सुलभ स्वभाव के होते हैं और अपने आदर्शवादी व्यवहार के लिए जाने जाते हैं। मेष राशि के व्यक्तियों के साथ उनकी अनुकूलता अद्वितीय समझी जाएगीजिसे प्रत्यक्ष रूप में देखा जा सकता है।


तुला राशि: तुला और मेष राशि वाले की साझेदारी अच्छी होगीक्योंकि तुला राशि वाले सम्मानित और संतुलित होते हैं तथा ईश्वरवादी भी होते हैं।


वृश्चिक राशिमेष राशि वाले व्यक्तियों को वृश्चिक जातक को समझना मुश्किल हो सकता हैं क्योंकि, ये लोग बेशक रूमानी होते हैंलेकिन साथ ही रहस्यमयी भी मेष राशि वाले को इनके साथ साझेदारी करना मतलब अतिरिक्त प्रयासों की आवश्यकताजो की  समय के साथ मुश्किलें बढ़ा सकती है  


धनु राशियह एक ऐसी राशि है जो मेष राशि के साथ बेहद अनुकूल होगी ये लोग ऊर्जावानजिज्ञासु और जीवन से भरपूर होते हैं और शानदार व्यक्तिगत संबंध बनाते हैं


मकर राशि: मकर राशि के लोगों को दूसरों को स्वीकार करने में संदेह और हिचक होती हैंजो व्यक्तियों के बिच मनमुटाव का कारण होता है।


मकर – मेष साझेदारी तभी बन सकती है जब दोनों आपस के मतभेदों को दूर रख कर आपसी समानता पर अधिक ध्यान दें


कुंभ राशिकुंभ राशि वाले स्वतंत्र विचारों वाले व्यक्ति होते हैं जो व्यक्तिगत संबंधों के प्रति कम समर्पण रखते हैंवे मेष राशि के लोगों के साथ उच्च स्तर पर तालमेल रखते हैं और शानदार संबंध साझा करते हैं।


मीन राशि: ये बहुत रूमानी होते हैं लेकिन साथी ही तेज़ मिज़ाज के होते हैंमेष राशि वालों को इन्हें समझने में मुश्किल होती है। यह अक्सर इन दो राशियों के बीच संबंधों में जटिलताओं को उत्पन्न कर देता है। एक दुसरे के व्यक्तित्व को दोनों राशि वाले जितने बेहतर तरीके से समझेंगे उतनी इनकी अनुकूलता बेहतर होगी