कोविड-19 संक्रमण के मामले 80 हजार के करीब


नई दिल्ली। सरकार ने लॉकडाउन के प्रभाव से अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए घोषित 20 लाख करोड़ रुपए के पैकेज के दूसरे चरण के तहत बृहस्पतिवार को प्रवासी मजदूरों को मुफ्त अनाज, किसानों को सस्ता कर्ज और रेहड़ी पटरी वालों को कार्यशील पूंजी कर्ज उपलब्ध कराने के लिए 3.16 लाख करोड़ रुपए के राहत पैकेज की घोषणा की। इस बीच देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों की संख्या 80,000 के करीब पहुंच गई है। संक्रमण से मरने वालों का आंकड़ा 2,500 को पार कर गया है, वहीं अब तक 26,000 से अधिक लोग इससे ठीक हो चुके हैं।


केरल, गोवा और असम जैसे राज्यों में संक्रमण के मामलों का ग्राफ सपाट होने के बाद अब फिर से अचानक यहां मामले सामने आने लगे हैं। वहीं ओडिशा, पश्चिम बंगाल तथा बिहार में पिछले कुछ दिन में संक्रमण की दर बढ़ गयी है। अधिकारियों के अनुसार इन क्षेत्रों में अधिकतर नये मामले विशेष ट्रेनों, बसों और उड़ानों से बाहर से लौटे लोगों से संबंधित हैं। महाराष्ट्र, गुजरात, तमिलनाडु और राष्ट्रीय राजधानी से कोविड-19 के मामले बड़ी संख्या में सामने आ रहे हैं।


कोरोना संक्रमण के दोगुने होने की दर 13.9 हुई
हालांकि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि पिछले तीन दिन में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों की दोगुने होने की दर सुधरकर 13.9 दिन हो गयी है जो पिछले 14 दिन में 11.1 थी। उन्होंने यह भी कहा कि अब प्रति दिन एक लाख नमूनों की जांच की क्षमता विकसित कर ली गयी है और देश में अब तक कोविड-19 के करीब 20 लाख नमूनों की जांच की जा चुकी है। 


भारत में 25 मार्च से देशव्यापी लॉकडाउन लगा हुआ है, हालांकि चार मई से शुरू हुए बंद के तीसरे चरण में कुछ रियायतें दी गयी हैं। सरकार जल्द ही 17 मई को बंद का तीसरा चरण समाप्त होने के बाद के रास्ते के बारे में घोषणा करेगी। प्रधानमंत्री मोदी कह चुके हैं कि लॉकडाउन का चौथा चरण होगा लेकिन यह पहले के तीन दौर से अलग होगा जिसकी जानकारी जनता को 18 मई से पहले दे दी जाएगी। गुरुवार शाम रात देश में संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 78,880 पहुंच गयी है।