KGMU के क्वीनमेरी में संक्रमित नर्स करती रही इलाज, डॉक्टर बोलीं- नहीं मिल रही सुरक्षा किट

क्वीनमेरी के 21 मरीज वार्ड में हैं भर्ती है नर्स संक्रमण फैलने पर जूनियर डॉक्टरों में आक्रोश।



लखनऊ । केजीएमयू के क्वीनमेरी में संक्रमित नर्स वार्ड में ड्यूटी करती रही। डॉक्टर-स्टाफ को मिलती रही। वहीं सोमवार को उसमें कोरोना की पुष्टि हुई। बार-बार हो रही लापरवाही पर जूनियर डॉक्टर भड़क गईं। उन्होंने असुरक्षा को लेकर विभागाध्यक्ष को पत्र लिखा। ऐसे में सीनियर डॉक्टरों को मानमनौव्वल करना पड़ा।


क्वीनमेरी में कोकारी निवासी गर्भवती का ऑपरेशन से प्रसव कराया गया। सामान्य मरीजों के बीच भर्ती प्रसूता में16 मई में कोरोना की पुष्टि हुई। ऐसे में संक्र िमित महिला को आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया। वहीं संपर्क में आए 36 डॉक्टर व चिकित्सा कर्मियों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए। साथ ही स्टाफ को एक्टिव क्वारंटाइन में रखा गया। इसमें संबंधित स्टाफ को घर जाने पर पाबंदी लगा दी गई। वहीं लेबर रूम वार्ड में ड्यूटी भी करनी होगी। इनमें से नर्स में कोरोना पॉजिटिव आने पर जूनियर डॉक्टर घबरा गए। उन्होंने संस्थान प्रशासन के निर्णय का विरोध किया। उनका कहना था कि एक्टिव क्वारंटाइन में रहने से बचा स्टाफ भी संक्रमण की चपेट में अा जाएगा। एक-दूसरे से वायरस गिरफ्त में ले लेगा। पॉजिटिव मरीज के संपर्क में आने के बावजूद संस्थान द्वारा वार्ड में ड्यूटी करना स्टाफ के जीवन सुरक्षा के साथ खिलवाड़ करना है।


26 महिला डॉक्टरों ने लगाए आरोप, आरडीए भी हुआ सक्रिय


क्वाीनमेरी की 26 महिला रेजीडेंट ने विभागाध्यक्ष को पत्र लिखा। उन्होंने कहा कि क्वीनमेरी हाई रिस्क एरिया है। यहां 24 घंटे इमरजेंसी रन होती है। राज्यभर से रेफर मरीज आते हैं। बावजूद, इलाज में लगे जूनियर डॉक्टर को पीपीई किट नहीं दी जा रही है। एन-95 मास्क भी मुहैया नहीं कराए जा रहे हैं। ऐसे में डॉक्टरों की जिंदगी से खिलवाड़ किया जा रहा है।नर्स के संक्रमित होने के बाद दिनभर क्वीनमेरी में गहमागमी चलती रही। सभी ने पहले संकाय सदस्यों से मौखिक शिकायत की थी। सुनवाई न होने पर सामूहिक रूप से विभागाध्यक्ष को पत्र लिखा है। इसके बाद रेजीडेंट एसोसिएशन सक्रिय हुआ। सीनियर डॉक्टर क्वीनमेरी पहुंचे। संक्रामक रोग यूनिट के इंचार्ज ने रेजीडेंट डॉक्टरों से वार्ता की। साथ ही दो दिन बाद दोबारा टेस्ट कराने का आश्वासन दिया।


क्या कहते हैं केजीएमयू प्रवक्ता ? 


केजीएमयू प्रवक्ता डॉ. सुधीर सिंह ने कहा कि नर्स में कोरोना पाया गया है। इसमें संक्रमण कैसे हुआ, यह पता लगाया जा रहा है। घर में नर्स की भतीजी भी बीमार है। वहीं रेजीडेंट से वार्ता के लिए सीनियर डॉक्टर गए थे। वह सभी एक्टिव क्वारंटाइन में रहेंगे। सुरक्षा किट प्रोटोकॉल के तहत उपलब्ध कराई जा रही हैं।