एम्फन ने गंभीर चक्रवात का रूप लिया, विशाल चक्रवात में बदल सकता है: IMD


नई दिल्ली। कोरोना वायरस संकट के बीच ओडिशा में एक और आफत के रूप में एम्फन तूफान दस्तक देने को तैयार है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने चेतावनी दी है कि बंगाल की दक्षिण खाड़ी के मध्य भागों में बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान  एम्फन अगले 6 घंटों में तेजी लाने वाला है।


दक्षिण बंगाल की खाड़ी के मध्य भागों में अक्षांश 12.5 ° N और देशांतर 86.4 ° E के पास, पारादीप (ओडिशा) के दक्षिण में लगभग 870 किमी का बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान आने वाला है। आईएमडी ने सोमवार को एक ट्वीट में कहा, "अगले छह घंटों में एक अत्यधिक गंभीर चक्रवाती तूफान आएगा। ये 20 मई की दोपहर / वीएससीएस के रूप में दीघा (डब्ल्यूबी) और हटिया द्वीप के बीच पश्चिम बंगाल- बांग्लादेश कोस्ट को पार करेगा।


एम्फन ने गंभीर चक्रवात का रूप लिया, विशाल चक्रवात में बदल सकता है : आईएमडी 


IMD ने अगले 4दिनों के लिए गंभीर चक्रवाती तूफान #अम्फान के चलते वर्षा की चेतावनी जारी की है।मछुआरों को सलाह दी गई है कि वे अगले 24घंटों के दौरान बंगाल की दक्षिणी खाड़ी में,17-18 मई के दौरान बंगाल की केंद्रीय खाड़ी और 18-20 मई 2020 के दौरान बंगाल की उत्तरी खाड़ी में आवाजाही न करें।


 मौसम विभाग ने बताया कि बंगाल की दक्षिण खाड़ी के मध्य भागों में चक्रवाती तूफान अम्फान पिछले 6 घंटों के दौरान उत्तर-उत्तरपूर्व की ओर बढ़ा और अत्यधिक गंभीर चक्रवाती तूफान में बदलते हुए आज 2:30 बजे बंगाल की दक्षिण खाड़ी और बंगाल की खाड़ी के मध्य भागों में केंद्रित रहा।


- ओडिशा के विशेष राहत संस्थान द्वारा क्योंझर जिले के झुमपुरा, क्योंझर, पटना, सहारपाड़ा और चंपुआ ब्लॉक के लिए एक खतरनाक आंधी और बिजली का अलर्ट जारी किया गया है। मयूरभंज जिले के सुकरौली, रारुआन और करजिया ब्लॉक में भी अलर्ट जारी किया गया है।


- यह उत्तर-उत्तरपूर्व की ओर बढ़ते हुए तेजी से बंगाल की खाड़ी के उत्तर-पश्चिम में बढ़ेगा और 20मई की दोपहर/शाम के दौरान पश्चिम बंगाल/बांग्लादेश के तटों दीघा (पश्चिम बंगाल) और हातिया द्वीप समूह (बांग्लादेश)के बीच के एरिया को एक गंभीर चक्रवात तूफान के रूप में पार करने की संभावना है।


बंगाल की खाड़ी के ऊपर कम दबाव का एक क्षेत्र बन रहा है जिसके तूफान का रूप लेने की प्रबल संभावना है। ओडिशा के राहत आयुक्त पी के जेना ने बताया कि उन्होंने मुख्य सचिव असित त्रिपाठी के साथ तूफान की स्थिति और राज्य पर पड़ने वाले उसके प्रभाव की समीक्षा की है। भारत मौसम विभाग द्वारा प्राप्त प्राथमिक सूचना के अनुसार, संभावित कम दबाव का क्षेत्र उत्तर-उत्तर पूर्व दिशा में घूमते हुए अपने पथ पर लौटेगा और बंगाल की खाड़ी की ओर मुड़ेगा। 


जेना ने कहा कि कम दबाव वाले क्षेत्र की गति अभी पता नहीं चल पाई है और संभावित तूफान तट पर कहां टकराएगा इसकी जानकारी मौसम विभाग की ओर से दी जाएगी। उन्होंने कहा कि तूफान उत्तर ओडिशा, दक्षिणी बंगाल या बांग्लादेश से भी टकरा सकता है। उन्होंने कहा कि मछुआरों को शुक्रवार से समुद्र में न जाने की सलाह दी गई है।  हालांकि मौसम विभाग ने अभी कोई सटीक जानकारी नहीं दी है, लेकिन विभाग ने यह स्पष्ट किया है कि कम दबाव का क्षेत्र और बढ़ जाएगा और बाद में यह तूफान का रूप ले लेगा।