बची हुई ब्रेड को स्टोर करने का यह है परफेक्ट तरीका


दाल, चावल, रोटी की तरह ही हम भारतीयों के यहां ब्रेड की मौजूदगी आम हो चुकी है। बच्चे हो या बड़े, सब तरह-तरह से इसे चाव से खाते हैं। हालांकि , सेहत से जुड़ी आशंकाएं भी कम नहीं हैं। विशेषज्ञों के अनुसार जरूरत ब्रेड से मुंह मोड़ने की नहीं, उसे पौष्टिक ढंग से खाने की है। 


1-आटे और मैदे के सिवा बाजार में कई तरह की ब्रेड्स आती हैं। अंकुरित साबुत अनाज, साबुत अनाज व शहद व ओट्स से बनी ब्रेड का चुनाव भी कर सकते हैं। मैदे से बनी ब्रेड की तुलना में साबुत अनाज से बनी ब्रेड में पोषक तत्व अधिक होते हैं।
 
2-मल्टीग्रेन ब्रेड कई अनाज से मिलकर बनाई जाती हैं तो उनमें हर अनाज के पौष्टिक तत्व होते हैं। यह सही है कि ब्रेड की कीमत कम करने और उसे हल्का बनाने के लिए उसमें रिफाइंड आटा मिला देते हैं। अच्छी मल्टीग्रेन ब्रेड्स में विटामिन ए, बी, आयरन व मैग्नीशियम होते हैं।


3-किशमिश , खजूर , अखरोट, से बनी फ्रूट ब्रेड दिल के लिए फायदेमंद तो होती है साथ में स्वाद में भी बेहद स्वादिष्ट होती है। 
 
4-ब्रेड को दाल व कई तरह की सब्जियों के साथ खाएं। इस तरह कार्बोहाइड्रेट के साथ पोषण भी भरपूर मिलेगा।


5-ब्रेड घर में बनाएं या फिर बाजार से लाएं, इन्हें ढंग से स्टोर करने का तरीका जानना जरूरी है। घर में बनी ब्रेड को ठंडा होने पर काटकर ही स्टोर करें। प्लास्टिक रैप में इन्हें पैक करें। ब्रेड को बिना अच्छी तरह दबाए, इस तरह बंद करें कि उसमें कम से कम हवा रहे। आप इन्हें रेफ्रिजरेटर में रखें। इस तरह ब्रेड्स को लंबे समय तक इस्तेमाल किया जा सकता है। जब भी आपको टोस्ट आदि बनाने हों, आप सील खोलकर उन्हें इस्तेमाल करें और बची हुई ब्रेड्स को वापस फ्रिज में रख दें।