तब्लीगी जमात के लोग कहां से और क्‍यों आए लखनऊ, छानबीन में लगाई गई इंटेलीजेंस ब्‍यूरो की टीम

लखनऊ में बाहर से तब्लीगी जमात के संपर्क में आए 150 से अधिक लोगों के संक्रमित होने की आशंका।



लखनऊ ।  सदर बाजार कैंट स्थित मस्जिद से पकड़े गए तब्‍दीली जमात के 12 लोग लखनऊ में कहां से आए थे, इसके बारे में जानकारी करने के लिए इंटेलीजेंस ब्‍यूरो की टीम लगाई गई है।


पड़ताल में सामने आया है कि करीब 150 से अधिक लोग इनके संपर्क में आए थे। जमात के लोगों ने बाजार में भ्रमण भी किया था। ऐसे में बड़ी संख्‍या में इन लोगों के संपर्क में आने वाले लोगों में संक्रमण की आशंका जताई जा रही है। खास बात यह है कि कोरोना संक्रमित मिले 12 में से 11 लोग सहारनपुर जिले के एक ही गांव के रहने वाले हैं। वहीं एक अन्‍य पड़ोसी गांव का है। प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि ये लोग धर्म प्रचार प्रसार के नाम पर लखनऊ आए थे। हालांकि इन्‍होंने खुद के आने की जानकारी स्‍थानीय पुलिस प्रशासन को नहीं दी थी।

खुफिया एजेंसियाेें को नहीं लगी भनक

राजधानी में गैर जनपदों से बड़ी संख्‍या में लोग पहुंच गए और इसकी भनक खुफिया एजेंसियों को नहीं लगी। अलग-अलग इलाकों में लोग भ्रमण करते रहे और जमात की मस्जिदों में ठहरे। यही नहीं विदेशी नगारिक भी खुलेआम सड़कों पर घुमते रहे और स्‍थानीय पुलिस ने उनसे पूछताछ करना मुनासिब नहीं समझा। इस पूरे घटनाक्रम में खुफिया एजेंसियों की लापरवाही उजागर हुई है।

पूछताछ के लिए बनाई गई टीम

कोरोना संक्रमित लोगों से पूछताछ के लिए पुलिस टीम का गठन किया गया है। बलरामपुर के चिकित्‍सकों की मदद से पुलिस टीम संक्रमित लोगों से यह पता लगाने की कोशिश करेगी कि उन लोगों के संपर्क में कौन लोग आए हैं। राजधानी आने के बाद ये लोग किन मस्जिदों में गए थे, इसकी सूची बनाई जा रही है ताकि उन्‍हें सेनेटाइज किया जा सके। पुलिस कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों के परिवारजन से संपर्क करने का प्रयास कर रही है।