राजधानी में छह नए मरीज-सभी सदर के, गोंडा में मिला पहला मरीज

सदर बाजार के हॉटस्पॉट में ड्रोन करेगा निगरानी। जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने सील इलाके का निरीक्षण क‍िया।



लखनऊ । राजधानी में कोरोना का प्रकोप नहीं थम रहा है। शुक्रवार को शहर में छह नए मरीजों में वायरस की पुष्टि हुई। ये सभी सदर के हैं। ऐसे में अब लखनऊ में कुल 118 केस हो गए हैंं। इसमे लखनऊ के 96 मरीज हैं। वहींं छावनी के कोरोना संक्रमित हॉटस्पॉट क्षेत्र में राशन की डिलीवरी करने वाले व्यापारी और नौकर के कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद गुरुवार को उनके परिवार के नौ और सदस्य भी कोरोना पॉजिटिव मिले। इस तरह गुरुवार को कुल 23 पॉजिटिव सदर के हॉटस्पॉट इलाके से मिले।  छावनी परिषद के पूर्व पार्षद के परिवार के 11 लोग अब तक कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। पूर्व पार्षद के पिता की हालत गुरुवार को बिगड़ गई। उनको डालीगंज के एक अस्पताल से पीजीआइ रेफर कर दिया गया। वहीं, परिवार के बाकी सदस्यों को भी क्वारंटाइन कर दिया गया है।


गोंडा में मिला कोरोना का पहला मरीज  


गोंडा जिले में भी कोरोना ने दस्तक दे दी है। जांच के लिए भेजा गया एक नमूना पॉजिटिव आया है। इसके बाद उसे कोविड-वन कैटेगरी के सीएचसी पड़रीकृपाल में भर्ती किया जा रहा है। साथ ही संबंधित गांव में स्वास्थ्य टीम पहुंचकर जांच कर रही है। संबंधित के संपर्क में आए लोगों के बारे में पता किया जा रहा है।


कोरोना जांच को भेजे गए 22 जमाती


गोंडा केे खोंडारे थाना क्षेत्र के कस्बा गौराचौकी स्थित जनता इंटर कॉलेज गाजीपुर में मुंबई और कानपुर से आए 25 जमातियों में से 22 को शुक्रवार को कोरोना जांच के लिए जिला अस्पताल लाया गया। तीन लोगों की जांच पहले ही हो गई थी, जिनकी रिपोर्ट नेगेटिव आई थी। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बभनजोत  के अधीक्षक डॉ तरुण मौर्य ने इसकी पुष्टि की है। बताया कि जांच रिपोर्ट आने के बाद ही क्लियर होगा कि किसी को कोरोना है कि नहीं। हालांकि यह दिल्ली की जमात में शामिल नहीं थे।


कसाईबाड़ा की अलीजान मस्जिद में छिपे मिले थे 12 जमाती


दरअसल, छावनी के कसाई बाड़ा स्थित अली जान मस्जिद में 22 मार्च से एक अप्रैल के बीच तब्लीगी जमात के 12 जमाती छिपे मिले थे। तीन अप्रैल को जांच में सभी 12 जमाती कोरोना पॉजिटिव मिले। जमाती के संपर्क में आने वाले एक 70 वर्षीय व्यक्ति की संदिग्ध हालात में चार अप्रैल को मौत हो गई। पूर्व पार्षद इस परिवार के संपर्क में आ गया। अगले ही दिन मृतक के घर में उसका भाई फिर तीन बच्चे पॉजिटिव मिले। वहीं, पूर्व पार्षद के घर के चार सदस्यों को कोरोना के लक्षण मिलने पर डालीगंज के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया। सोमवार को पूर्व पार्षद कोरोना पॉजिटिव निकले। वहीं, उनके पिता सहित चार और लोग पॉजिटिव मिले। जांच और हुई तो परिवार के सात अन्य सदस्य भी पॉजिटिव मिले। गुरुवार को 70 वर्षीय पिता को पीजीआइ रेफर किया गया। यहां उनकी हालत गंभीर बनी हुई है।


23 पॉजिटिव कसाई बाड़ा और सदर में व्यापारी के घर से मिले


कसाईबाड़ा इलाके में जहां सबसे अधिक मरीज मिले हैं, वहां पर अब आसमान से भी निगरानी की जाएगी। इलाके की छतों और गलियों में भी लोग जमा नहीं हों, इसके लिए प्रशासन ने ड्रोन से निगरानी कराने के निर्देश दिए हैं। गुरुवार को जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने सील इलाके का निरीक्षण कर जरूरी दिशा-निर्देश दिए। इस दौरान नगर आयुक्त इंद्रमणि त्रिपाठी, अपर जिलाधिकारी नागरिक आपूर्ति आरडी पांडेय और अपर जिलाधिकारी पूर्वी केपी सिंह भी उपस्थित रहे। डीएम ने प्रोटोकॉल के अनुसार सैनिटाइजेशन के बारे में पूछा।


नगर आयुक्त ने बताया कि कसाईबाड़ा क्षेत्र में करीब एक हजार मकानों को तथा हॉटस्पॉट के एक वर्ग किलोमीटर एरिया को भी नगर निगम द्वारा नियमित तौर से सैनिटाइज किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि जिन मकानों, भवनों आदि को सैनिटाइज किया गया है। सबकी कोडिंग अंकित की जा चुकी है, ताकि पहचान की जा सके। जिलाधिकारी ने सीएमओ से इस इलाके में तेजी के साथ सैंपल लेने के निर्देश दिए ताकि जो भी संक्रमित व्यक्ति हों, उनकी पहचान कर आइसोलेट किया जा सके। डीएम ने यह भी निर्देश दिए कि आवश्यकता पड़ने पर आपूर्ति वाहनों की संख्या को बढ़ाया जाए और जो गाड़ियां राशन लेकर लोगों के घर जा रही है, उसमें डिलीवरी करने वाले कार्मिकों को पीपीई किट उपलब्ध कराई जाए।