पालघर मॉब लिंचिंग की घटना के बाद एक्शन में गृह मंत्रालय, महाराष्ट्र सरकार से मांगी रिपोर्ट


नई दिल्ली। महाराष्ट्र के पालघर में दो साधु समते तीन लोगों की हुई मॉब लिंचिंग के मामले को लेकर गृह मंत्री अमित शाह ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से बात की है। गृह मंत्रालय ने महाराष्ट्र सरकार से घटना की रिपोर्ट भी मांगी है। बता दें कि पालघर में सैकड़ों की भीड़ ने तीन लोगों की पीट-पीट कर हत्या कर दी। इसमें दो साधु थे जिसमें एक वृद्ध और एक ड्राइवर शामिल था। 


भीड़ पुलिस के सामने ही इन लोगों लाठी डंडों से पीट कर हत्या कर दी। पुलिस के होने के बाद इस तरह की घटना को लेकर अब कई तरह के सवाल उठने लगे हैं। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, इस मामले में एफआईआर दर्ज कर 110 लोगों को गिरफ्तार किया गया। इनमें 110 में से 101 लोगों को 30 अप्रैल तक पुलिस कस्टडी में भेजा गया है जबकि नाबालिगों को जुवेनाइल सेंटर होम में भेजा गया है।


महाराष्ट्र मुख्यमंत्री कार्यालय की तरफ से रविवार की शाम को यह कहा गया कि पालघर घटना पर कार्रवाई की गई है और पुलिस ने दो साधु, एक ड्राईवर की मॉब लिंचिंग और पुलिसकर्मियों पर हमला करने वाले सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। राज्य सरकार घटना की उच्च स्तरीय जांच की आदेश दे चुकी है। राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने रविवार को यह जानकारी दी। देशमुख ने इस इस घटना को कोई सांप्रदायिक रंग नहीं देने की भी चेतावनी दी है क्योंकि तीन मृतकों में दो लोग साधु बताये जा रहे हैं। 


उधर महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने भी हत्या के आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है। फडणवीस ने ट्वीट करते हुए कहा- पालघर में मॉब लिंचिंग घटना का वीडियो हैरान करने वाला और अमानवीय है। ऐसी विपदा के समय इस तरह की घटना और भी ज्यादा परेशान करने वाली है। उन्होंने आगे लिखा कि मैं राज्य सरकार से गुजारिश करता हूं कि वह इस मामले की हाई लेवल जांच करवाएं और जो दोषी हैं उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई हो।