मौलाना साद के हरियाणा में छिपे होने के संकेत मिले


चंडीगढ़। तब्लीगी जमातियों के जरिये देश भर में कोरोना फैलाने के आरोपित निजामुद्दीन मरकज के मुखिया मौलाना साद कांधलवी के हरियाणा में होने के संकेत मिले हैं। इसके मद्देनजर खुफिया एजेंसियां सक्रिय हो गई हैं। हरियाणा सरकार ने साद की लोकेशन हासिल कर उसे पकड़ने के लिए एक टीम का गठन कर दिया है। हरियाण सरकार और सुरक्षा एजेंसियां मौलाना साद को पकड़ने के लिए जाल बिछाने में जुट गई है। संभावना जताई जा रही है कि पुलिस उस तक जल्‍द की पहुंच जाएगी। हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने कहा है कि मौलाना साद हरियाणा में हुआ तो उसे दो दिन में पकड़ लेंगे।


टीम बनाकर खंगाले जा रहे नूंह के तमाम इलाके, केंद्रीय जांच एजेंसियों ने अभी नहीं किया हरियाणा से संपर्क


हरियाणा सरकार द्वारा गठित टीम में कौन-कौन हैं और किसके निर्देशन में यह टीम कैसे काम करेगी, इस बारे में वह हाल फिलहाल किसी तरह की जानकारी साझा नहीं करना चाह रही है। हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने दावा किया है कि अगर मौलाना साद हरियाणा में हुआ तो उसे दो दिन के भीतर पकड़ लिया जाएगा।


गृहमंत्री अनिल विज ने कहा- हरियाणा में हुआ तो दो दिन में हो जाएगा गिरफ्तारी


हरियाणा के गृह मंत्री ने इस बात की पुष्टि की है कि उन्हें सूचनाएं मिली हैं कि मौलाना साद नूंह इलाके में कहीं छिपा हुआ है, लेकिन हमारी खुफिया एजेंसियां अभी तक किसी ठोस नतीजे पर नहीं पहुंची हैं। हमारी इंटेलीजेंस को लगता है कि वह उत्तर प्रदेश में कहीं छिपा हुआ है, लेकिन यदि साद ने हरियाणा को अपने छिपने का ठिकाना बना रखा है तो ऐसी सूचनाओं को सरकार किसी सूरत में नजर अंदाज नहीं करेगी और इसलिए टीम का गठन किया जा चुका है।


तब्‍लीगी जमातियों को सरेंडर करने के लिए कल तक का समय


गृह मंत्री विज ने एक सवाल के जवाब में कहा, केंद्रीय जांच एजेंसियों ने हरियाणा में मौलाना साद के होने की संभावनाओं पर अभी तक हमसे कोई बात नहीं की है। हमने खुद ही अपने स्तर पर टीम का गठन किया है, ताकि तमाम आशंकाओं की तह में जाया जा सके। उन्होंने बताया कि हरियाणा में अभी तक 1526 जमाती बाहर आ चुके हैं। सभी छिपे हुए जमातियों को 8 अप्रैल शाम पांच बजे तक खुद सरेंडर करने को कहा गया है। इसके बाद यदि कोई जमाती पकड़ा गया तो आपदा प्रबंधन एक्ट की धाराओं में कार्रवाई होगी।


आपदा प्रबंधन एक्ट की कौन सी धारा का इस्तेमाल इन जमातियों के विरुद्ध किया जाएगा, इस सवाल के जवाब में अनिल विज ने बताया कि कि इस बारे में हरियाणा के एडवोकेट जनरल बलदेव राज महाजन से राय मांगी गई है। हिमाचल में हत्या का मुकदमा दर्ज किए जाने से जुड़े सवाल पर विज ने कहा कि जो मुमकिन ही नहीं है, वह भला मैं कैसे कह सकता हूं। हिमाचल सरकार का यह फैसला बेहद बचकाना है। हरियाणा इस तरह के किसी मुकदमे के हक में नहीं है। उन्होंने मौलाना साद से भी कहा कि यदि वह हरियाणा में छिपा हुआ है तो कल शाम तक खुद ही सरेंडर कर दे।