मास्क लगाए बिना घर से बाहर निकलने पर पुलिस ने 32 लोगों पर किया केस दर्ज


नई दिल्ली। कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए बिना मास्क लगाए घर से बाहर निकलना अपराध घोषित किए जाने के बाद उत्तर-पश्चिम दिल्ली इलाके में मास्क पहने बिना घर से बाहर निकलने वाले 32 लोगों पर केस दर्ज किए गए हैं। दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।  


दिल्ली में तेजी से बढ़ते कोरोना के प्रसार के मामलों को देखते हुए दिल्ली सरकार ने गुरुवार से बिना मास्क लगाए बाहर निकलना अपराध घोषित कर दिया है। मास्क न पहनने पर जुर्माना और छह माह तक जेल की सजा हो सकती है। दिल्ली के मुख्य सचिव विजय देव की ओर से जारी अधिसूचना के मुताबिक, अब से दिल्ली में बिना मास्क लगाए या चेहरा ढके निकलने पर धारा 188 के तहत कार्रवाई की जा सकती है। इसके तहत एक से छह महीने तक की सजा और 200 रुपये से 1000 रुपये तक का जुर्माना लगाया जा सकता है।


दिल्ली सरकार की ओर से जारी अधिसूचना के मुताबिक, अगले आदेश तक दिल्ली में बिना चेहरा ढके निकलना अपराध की श्रेणी में आएगा। यह आदेश दिल्ली के सरकारी अधिकारियों, कर्मचारियों के लिए भी लागू होगा। सरकारी बैठकों में हिस्सा लेने वाले अधिकारियों को भी मास्क लगाना अनिवार्य होगा। इसके अतिरिक्त स्वास्थ्य कारण हो या कोई भी अन्य कारण बिना मास्क पहने कोई व्यक्ति दिल्ली में नहीं निकल सकेगा। मुख्य सचिव विजय देव ने कहा, कुछ दिनों के लिए इस प्रकार के कड़े फैसले लेने की जरूरत है, ताकि कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को रोका जा सके।


दिल्ली में कोरोना संक्रमण के 720 मामले


दिल्ली में गुरुवार को कोरोना वायरस के कारण 3 लोगों की मौत हो गई और संक्रमण के 51 नए मामलों की पुष्टि हुई जिसके साथ संक्रमित लोगों की संख्या 720 पर पहुंच गई। दिल्ली सरकार के अधिकारियों ने बताया कि संक्रमित लोगों में से 430 लोग निजामुद्दीन मरकज में हुए तबलीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल हुए थे। बुधवार रात तक शहर में संक्रमितों की संख्या 669 और मृतकों की संख्या नौ थी। गुरुवार को तीन संक्रमित व्यक्तियों की मौत हो गई, जिसके साथ मृतक आंकड़ा 12 हो गया। अधिकारियों ने बताया कि 25 लोगों को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई और एक व्यक्ति देश से बाहर चला गया।