लॉकडाउन के बीच बारात लेकर दुल्हन लाने निकले दूल्हे संग सात बाराती हवालात पहुंचे


मुरादनगर। लॉकडाउन का उल्लघंन कर बारात लेकर जा रहे एक दूल्हे को हवालात की हवा खानी पड़ी। गाजियाबाद पुलिस ने दिल्ली मेरठ मार्ग पर रावली कट के पास रविवार रात दूल्हे सहित सात लोगों को गिरफ्तार किया है। दूल्हा बारात लेकर बिना अनुमति के मुरादनगर से मेरठ की श्याम नगर कॉलोनी जा रहा था। लॉकडाउन के उल्लघंन में दूल्हे की गिरफ्तारी का यह पहला मामला है।


मुरादनगर की नूरगंज कॉलोनी निवासी ताजुद्दीन की शादी मेरठ की श्याम नगर कॉलोनी निवासी एक युवती के साथ तय हुई थी। जिस दिन रिश्ता तय हुआ था तो परिजनों ने 13 अप्रैल की शादी तय की थी। गत 25 मार्च को कोरोना के चलते देशभर में लॉकडाउन लग गया और आवाजाही पूरी तरह से बंद हो गई। शादी से पहले दुल्हन पक्ष की ओर से लाल खत भेजा जाता है, लेकिन वह भी नहीं भेजा गया। बताया जा रहा है कि दोनों परिवारों ने शादी टालने को लेकर भी बात हुई थी, लेकिन दूल्हा पक्ष शादी करने की जिद पर अड़ गया था। रविवार रात को दूल्हा ताजुद्दीन अपने रिश्तेदारों के साथ अलग-अलग कार से मुरादनगर से मेरठ जा रहे थे।


सैकड़ों शादी हो चुकी है कैंसिल : बताया जा रहा है कि मार्च व अप्रैल में मोदीनगर व मुरादनगर में सैकड़ों शादी प्रस्तावित थीं। इतना ही नहीं लोगों ने शादी की सभी तैयारी कर फॉर्म हाउस व अन्य जरूरत के सामान भी बुक कर लिए थे। लॉकडाउन लगने के बाद अधिकांश लोगों ने आपसी सहमति से शादी कैंसिल कर दी।


पुलिस को चकमा देने का प्रयास किया


थाना प्रभारी ओमप्रकाश सिंह ने बताया कि रविवार रात को एक बजे के आसपास पुलिस दिल्ली मेरठ मार्ग पर रावली रोड तिराहे पर चेकिंग कर रही थी। इसी बीच रावली मार्ग से दो कार आती हुई दिखाई दीं। पुलिस ने दोनों कारों को रोक लिया। जब पुलिस ने कार सवार लोगों से बाहर निकलने का कारण पूछा तो वह किसी नजदीकी रिश्तेदार के बीमार होने की बात कहने लगे। कार की पिछले सीट पर सेहरा व अन्य सामान रखा था। जब पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की तो उन्होंने सारी बात बता दी।


अनुमति लेकर हो सकती थी शादी


लॉकडाउन होने के चलते जिला प्रशासन ने धारा 144 लगा रखी है। यदि बेहद जरूरी हो तो प्रशासन से अनुमति लेकर सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखकर दो या तीन लोग जा सकते हैं।