लखनऊ में नहीं मिलेगी लॉकडाउन से राहत, पहले की तरह रहेगी व्यवस्था

लखनऊ में नहीं मिलेगी लॉकडाउन से राहत केंद्र सरकार के कार्यालय भी नही खुलेंगे किसानों को मिल सकती है कुछ छूट। 



लखनऊ ।  राजधानी में लगातार बड़ रहे कोरोना के खतरे को देखते हुए प्रशासन ने अगले आदेश तक जिले में पहले की तरह लॉक डाउन की स्थिति बरकरार रखने का फैसला किया है। जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने देर रात अफसरो के साथ बैठक कर जिले में कोरोना के नये इलाकों में बढ़ने से रोकने के लिए निर्णय लिया है।


राजधानी में कोरोना लागातार बढ़ रहा है रविवार तक यह मरीजों की संख्या जहा पौने दो सौ पर कर गयी वही 21 हाट स्पॉट सील किये गए है।  जिलाधिकारी के मुताबिक कोरोना का विस्तार नही हो इसलिए जरूरी है कि लॉक डाउन का अभी कुछ दिन और पालन किया जाए ताकि यह नए इलाकों में नही फैले प्रशासन ने सबकी सेहत को लेकर यह निर्णय लिया है कि अब तक जो स्थिति थी उसी प्रकार रहेगी । इस व्यवस्था में किसी तरह का बदलाव नही किया जाएगा। केवल आवश्यक सेवाओं को छोड़कर किसी को भी बाहर निकलने की इजाजत नही होगी  पहले की तरह ही सभी सरकारी, अर्धसरकारी और निजी कार्यालय नही खुलेंगे। दरअसल सरकार 20 अप्रैल से कई सरकारी कार्यालय और कुछ कारोबार शुरू करने की तैयारी में थी लेकिन पिछले कुछ दिनों में जिस तरह से कोरोना शहर के अलग अलग इलाको में फैला है उसको देखते हुए प्रशासन ने लॉक डाउन की स्थिति यथावत रखने के निर्देश दिया है। केवल किसानों को कुछ छूट देने की बात चल रही है।


क्या क्या खुला रहेगा


दवा की दुकानें, पेट्रोल पंप, गैस एजेंसी, अस्पताल, खाद्य वस्तुओं को ले जाने वाले सभी प्रकार के परिवहन को अनुमति के साथ छूट, कानून व्यवस्था व न्याय और सुधार सेवाएं, पुलिस सशस्त्र बल और अर्धसैनिक कार्यलय, बिजली पानी से संबंधित कार्यालय, किराने का सामान की आपूर्ति, फल एवं सब्जियों की आपूर्ति, पशुओं के लिए चारे की आपूर्ति, दुग्ध एवं डेयरी प्लांट, दूरसंचार सेवाएं, बीमा कंपनियां, बैंक और एटीएम, पोस्ट ऑफिस।