क्या खाने को माइक्रोवेव करने से मर जाते हैं कीटाणु और वायरस?

आपका खाना पकाने से लेकर उसे कई बार गर्म करने तक माइक्रोवेव ने ज़ाहिर तौर पर आपकी ज़िंदगी थोड़ी आसान बनाई है। इसमें कोई शक़ नहीं कि माइक्रोवेव किसी जादू से कम नहीं है।...



इंसान की इजात की हुई सभी चीज़ें कमाल की हैं और ख़ासकर माइक्रोवेव। माइक्रोवेव से बेहतर आविष्कार शायद ही कुछ हो। अगर आपको खाना पकाने या फिर उसे गर्म करने में आलस आ रहा है, तो माइक्रोवेव आपकी मदद के लिए हमेशा हाज़िर रहता है। आपका खाना पकाने से लेकर उसे कई बार गर्म करने तक, माइक्रोवेव ने ज़ाहिर तौर पर आपकी ज़िंदगी थोड़ी आसान बनाई है। इसमें कोई शक़ नहीं कि माइक्रोवेव किसी जादू से कम नहीं है।


इसमें दो राय नहीं कि माइक्रोवेव ने ज़िंदगी को आसान बनाया है, लेकिन इसके साथ ही कई ऐसे दावे हैं, जो कहते हैं कि खाने को माइक्रोवेव करने से कीटाणु और वायरस मर जाते हैं। क्या ये सच है?


क्या सच में कीटाणुओं को मार देता है माइक्रोवेव


ये बात हम सदियों से सुनते आ रहे हैं कि खाने को खाने से पहले गर्म करने से न सिर्फ वो तरोताज़ा रहता है बल्कि लंबे समय तक खराब नहीं होता। यहां, तक कि आयुर्वेद में भी कहा गया है कि तीन घंटे बाद पका खाना ताज़ा नहीं रहता। खाने को गर्म करने से ख़राब रोगाणु को मारने में मदद मिलती है, लेकिन क्या इससे बैक्टीरिया और वायरस भी मर जाते हैं? 


2007 में फ्लोरिडा विश्वविद्यालय में हुए शोध के अनुसार, ये टेस्ट किया गया था कि गर्म करने पर क्या माइक्रोवेव कीटाणुओं और वायरस को मारने की क्षमता रखता है या नहीं। इसके लिए शोधकर्ताओं ने गंदे स्पंज का इस्तेमाल किया जो कि अपशिष्ट जल में भीगा हुआ था और जिसमें फेकल बैक्टीरिया, वायरस और परजीवी जैसे रोगजनक शामिल थे। यहां तक कि उन्होंने बेसिलस सेरेस बीजाणु को भी शामिल किया था, जिसे गरमी, कैमिकल और रेडिएशन से भी मारना मुश्किल है। 


रसोई के इन स्पंज को हाई पॉवर के साथ दो मिनट के लिए माइक्रोवेव के अंदर रखा गया था, जिसमें 99 प्रतिशत जीवित रोगजनक निष्क्रिय हो गए थे। वहीं, बेसिलस सेरेस बीजाणु को निष्क्रिय होने में तेज़ गर्मी में 4 मिनट लगे। जिसके बाद ये निष्कर्ष निकाला गया कि माइक्रोवेव से कीटाणुओं को मारा जा सकता है। 


क्या निकला शोध में


शोध से ये समझ आया कि माइक्रोवेव से कीटाणु और वायरस खत्म हो सकते हैं, लेकिन ये तापमान पर भी निर्भर करता है। यहां तक कि न सिर्फ तापमान बल्कि इस पर भी निर्भर करेगा कि खाना हर तरफ से गर्म हुआ हो। मतलब ये कि माइक्रोवेव में अक्सर खाना हर तरफ से एक-जैसा गर्म नहीं हो पाता है, इसलिए अगर खाने में खराब रोगाणु मौजूद हैं, तो वह पूरी तरह से नहीं मरेंगे। इसलिए अगर आप माइक्रोवेव के इस्तेमाल से खाने को डिसइंफेक्ट करने का सोच रहे हैं, तो शायद के ट्रिक पूरी तरह काम न आए।