कोरोना के खिलाफ लड़ाई में खुद सीएम योगी आदित्यनाथ ने संभाली कमान


लखनऊ। कोरोना से लड़ाई में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एक-एक संवेदनशील स्थानों पर खुद नजर रख रहे हैं। चाहे संक्रमण रोकने की बात हो, गरीबों को राशन-राहत पहुंचाना हो या फिर आम लोगों को जरूरी सेवाओं और सुविधाओं की बात हो। सुबह अपने आवास पर समीक्षा करते हैं तो दोपहर में गाजियाबाद और फिर देर शाम तक स्थिति का आकलन करने में जुट जाते हैं। उनकी कार्यशैली का यह सिलसिला बीते कई दिनों से चल रहा है।


मुख्यमंत्री ने सोमवार को सुबह अपने आवास पर समीक्षा की और दोपहर बाद नोएडा पहुंच गए। वहां समीक्षा करने के बाद उन्होंने कई अस्पतालों का जायजा भी लिया। मंगलवार को उनका मेरठ, गाजियाबाद और आगरा का कार्यक्रम था। उन्होंने गाजियाबाद में निरीक्षण आदि किया, फिर जब पता चला कि दिल्ली के निजामुद्दीन में तबलीगी जमात से पूरे प्रदेश में संक्रमण फैलने की आशंका है तो लौटकर लखनऊ आ गए। 


इससे पहले बड़ी चुनौती दिल्ली से मिली जब हजारों लोग यूपी बिहार के लिए बार्डर पर भेज दिए गए। योगी ने अपनी टीम के जरिये उनके भोजन पानी के साथ मेडिकल जांच की व्यवस्था करवाई। सीएम के करीब रहने वाले अधिकारी बताते हैं कि वह मंगलवार को गाजियाबाद से 12:15 आवास पहुंचे, 12:30 टीम 11 के अधिकारियों के साथ बैठक शुरू कर दी। दो बजे बैठक ख़त्म होने के बाद जरूरी कागज पर दस्तख़त किए और प्रदेश भर का फीडबैक लेने के बाद शाम को सात बजे फिर उन्होंने मेरठ व आगरा मंडल के नौ जिलों के डीएम-एसपी के साथ बैठक की।