5 किलो नि:शुल्क चावल के लिए 8 घंटों का ‘संघर्ष’


लखनऊ। सरकार की ओर से गरीबों को दिए जा रहे 5 किलो नि:शुल्क चावल हासिल करने के लिए सरकारी राशन की दुकानों पर लोगों को 8 घंटे कड़ी जद्दोजहद करना पड़ी। सुबह चार बजे से लाइन में खड़े लोगों को दोपहर 11 बजे राशन मिल पाया। कहीं, सर्वर में दिक्कत की वजह से लोगों को परेशानी हुई तो कहीं राशन दुकानदार सुबह 6 बजे के बजाय लोगों के हंगामें के बाद सुबह 10.30 बजे पहुंचे। 
अधिकतर राशन की दुकानों पर सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ती दिखाई दी। यही नहीं, एक कोटेदार को 200 मिलीलीटर सैनिटाइजर दिया गया था, जो चंद लोगों में ही खत्म हो गया।
तोप दरवाजा- चौपटिया के तोप दरवाजा स्थित राशन वितरक रवि चौबे की दुकान के बाहर सुबह 4 बजे से लोग नि:शुल्क चावल लेने आए थे। चावल लेने आए राजा ने बताया कि दस बजे तक दुकान नहीं खुली तो लोगों ने हंगामा करना शुरू कर दिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने कोटेदार को बुलाकर दुकान खुलवाई। इसमें दुकानदार ने 3 अप्रैल को दिया जाने वाला गेहूं पहले बांटा जबकि चावल लेने आए लोगों को शाम को आने को कहा। इससे लोगों में काफी रोष नजर आया। वहीं, सौ मीटर दूर रईस मियां की दुकान पर लोग सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखते हुए राशन ले रहे थे। रईस ने बताया कि सुबह से अब तक वह 19 कुंतल चावल बांट चुके हैं।
सआदतगंज के पुराना चबूतरा स्थित परमेश्वर साहू की दुकान पर रात में 12 बजे से नम्बर लगना शुरू हो गया था। यहां खड़े रवि ने बताया कि वह अपना राशन कार्ड 12 बजे दे गए थे लेकिन जिस मशीन से अंगूठे का निशान लिया जा रहा है, थोड़ी देर के बाद उसकी कनेक्टिविटी चली जाती है।