पश्चिम बंगाल में पेड़ पर समय बिता क्वारंटाइन कर रहे लोग


नई दिल्ली। कोरोना वायरस के चलते देश और दुनिया में बेचैनी का आलम है। कोरोना वायरस के देश में लगातार आ रहे मामलों को रोकने के लिए केन्द्र और राज्य सरकार की तरफ से पूरी कोशिश की जा रही है, तो वहीं आम लोगों से कहा जा है कि वे सतर्कता के साथ रहें और बाहर निकलने से परहेज कर लॉकडाउन का पालन करें।


लॉकडाउन के बीच सैकड़ों लोग कर रहे पलायन


इस बीच, कई प्रवासी मजदूरों ने इस मुश्किल घड़ी में अपने घरों का रूख किया तो कई पैदल ही सैकड़ों किलोमीटर दूर अपने गांव की ओर जा रहे हैं। ऐसे में सबसे बड़ा डर है कि कहीं इनमें से कोई कोरोना पॉजिटिव निकला तो ये अपने गांव जाकर क्वारंटाइन किए बिना दूसरों की जान के लिए खतरा न बन जाए।


पश्चिम बंगाल में पेड़ पर रह कर क्वरंटाइन


लेकिन, पश्चिम बंगाल में आइसोलेशन सेंटर नहीं होने और न ही अलग घर में कमरा होने के चलते कुछ लोग पेड़ पर खुद को क्वारंटाइन कर रहे हैं। ये तस्वीर है पश्चिम बंगाल के पुरूलिया के बलरामपुर इलाका की।


यहां पर वनगिडी गांव के लोग जिन्होंने हाल में चेन्नई से वापसी की है, वे पेड़ पर रहकर 14 दिनों के लिए खुद को क्वारंटाइन कर रहे हैं। वैसे पेड़ पर यह अस्थाई कैंप पुरूलिया गांव के लोग के लोगों तरफ से हाथी के मूवमेंट का पता लगाने और हाथियों के हमले से बचने के लिए किया जाता है।


दिल्ली के उत्तर नगर में लोगों की भारी भीड़


उधर, दिल्ली के उत्तम नगर बस टर्मिनल पर पलायन करने वाले श्रमिकों की लंबी लाइन लगी हुई है, जो आनंद विहार बस टर्मिनल जाने वाली बसों का इंतजार कर रहे हैं। आनंद विहार बस टर्मिटनल से वे अपने गृह जिले की बस लेंगे।


लॉकडाउन में पलायन कर रहे मजदूरों के साथ दो हादसे, 10 की मौत


महाराष्ट्र और कर्नाटक में अपने घरों की ओर वापसी कर रहे कुछ लोग हादसे का शिकार हो गए। दो हादसों में दस लोगों की मौत हो गई। महाराष्ट्र के पालघर जिले के वसई तालुका में शनिवार को तेज गति से आ रहे टेंपो से कुचल कर चार लोगों की मौत हो गई और तीन गंभीर रूप से घायल हो गए। ये सभी गुजरात से मुंबई पैदल जा रहे थे। हादसे के बाद पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि यह दुर्घटना परोले गांव में तड़के तीन बजे हुई जब तेज गति से आ रहे एक टेंपो ने गुजरात से मुंबई पैदल जा रहे कुछ लोगों को कुचल दिया। हादसे में चार लोगों की मौत हो गई और तीन गंभीर रूप से घायल हो गए।


वहीं कनार्टक के बाहरी इलाके में एक मजदूरों को ले जा रही लॉारी से टकराकर छह लोगों की मौत हो गई। हादसा आउटर रिंग रोड पर हुआ। लॉरी मजदूरों को कनार्टक में उनके गांवों में ले जा रही थी। लॉकडाउन के कारण बेरोजगार हुए 30 मजदूर कनार्टक के रायचूर जिले में अपने गांव लौट रहे थे। इस हादसे में छह अन्य घायल हो गए।