कोरोना का डर ऐसा कि मुंबई से लौटे बेटे को मां-बाप ने घर में घुसने से रोका











 





महराजगंज। कोरोना के चलते शट डाउन हुए मुम्बई से किसी तरह बेटा आखिरी ट्रेन पकड़ कर बेटा थका-मादा घर पहुंचा। महराजगंज के धानी क्षेत्र के कानापार का रहने वाला यह युवक जैसे ही घर में दाखिल होने की कोशिश की दरवाजे पर ही मां-बाप ने उसे रोक दिया। 


कहा बेटा तुम मुम्बई से आए हो। वहां कोरोना तेजी से फैल रहा है। ऐसे में पहले अस्पताल जाओ। वहां से कोरोना की जांच कराकर आओ। बेटा सफाई देता रहा कि उसको कोरोना नहीं हुआ है। लेकिन उसके माता-पिता ने जांच के लिए लौटा दिया। इसके बाद बेटे ने सिद्धार्थनगर जिला अस्पताल में जांच कराई और कोरोना का लक्षण नहीं मिलने पर घर लौटा।


यह युवक सोमवार को मुम्बई से घर आया। मां-बाप ने जब घर में घुसने से मना कर दिया तो वह वापस लौट कोरोना की जांच कराने के लिए धानी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र गया। वहां जांच नहीं हो पाई। इसके बाद वह सिद्धार्थनगर जनपद के जिला अस्पताल पहुंचा। वहां सामान्य जांच हुई, जिसमें डाक्टरों ने बताया कि कोरोना का लक्षण नहीं है। उसके बाद रिपोर्ट लेकर बेटा घर पहुंचा। तब उसे घर में प्रवेश मिला।


पिता ने कहा कि एहतियात जरूरी है 
मुम्बई से आए बेटे को घर में घुसने से मना कर कोरोना की जांच के लिए अस्पताल भेजने वाले पिता का कहना है कि यह सतर्कता के लिए जरूरी है। थोड़ी सी लापरवाही मुश्किल हालात पैदा कर सकती है। बेटा कोरोना की जांच कराकर आ गया है। कुछ दिन तक वह घर में ही दूरी बनाए रहेगा। यह सभी लोगों को करना चाहिए।